[vc_separator type="transparent" position="position_center" up="3"] logo
चित्तौड़गढ़ के बाशिंदों के पुरखों ने देखा है कैसे केवल पहाड़ के ऊपरी हिस्से पर होने वाली बारिश - RCMCT
15608
post-template-default,single,single-post,postid-15608,single-format-standard,bridge-core-1.0.4,ajax_fade,page_not_loaded,,side_menu_slide_with_content,width_470,qode-theme-ver-18.0.6,qode-theme-bridge
 

चित्तौड़गढ़ के बाशिंदों के पुरखों ने देखा है कैसे केवल पहाड़ के ऊपरी हिस्से पर होने वाली बारिश

चित्तौड़गढ़ के बाशिंदों के पुरखों ने देखा है कैसे केवल पहाड़ के ऊपरी हिस्से पर होने वाली बारिश

चित्तौड़गढ़ के बाशिंदों के पुरखों ने देखा है कैसे केवल पहाड़ के ऊपरी हिस्से पर होने वाली बारिश से एक दर्जन से अधिक जल संग्रहण के ढांचों में पानी एकत्र किया जाता रहा है । अफसोस हम किताबी ज्ञान बहुत ले रहे हैं लेकिन जो हमारे सामने मौजूद है इस पर कभी चर्चा नहीं हुई। शहर के बीच से गंभीरी नदी बहती है लेकिन स्थानीय निवासियों की लापरवाही और प्रशासन की अनदेखियों के चलते इस नदी का पानी पीने लायक नहीं रहा है। इस वर्षा बारिश अच्छी रही है तो नदी में भी अच्छा पानी आया है। लेकिन शहर के आस-पास के तालाबों के बारे में किवदंतियां ही बची हैं। बीते 30 सालों से पानी के नए ढांचे नहीं बन सके हैं सिवाय जलदाय विभाग की पानी की टंकियों के। शायद स्थितियां बिगड़ने का इंतजार है। चित्तौड़गढ़ के महाराणा राजकीय स्नात्तकोत्तर महाविद्यालय के छात्रों से संवाद शानदार रहा, साथ ही कॉलेज के व्याख्याताओं का भी जल संवाद में खासा उत्साह दिखा ।

No Comments

Post A Comment